Registered by Govt. of Tamilnadu Under act, 1975, SL No. 280/2015
Registered by Govt. of India Act XXI 1860, Regn SEI 1115

  • भारत में पहली बार सभी भारतीये भाषाओं में पंचगव्य चिकित्सा विज्ञान (गऊमाँ के गव्यों) की आधिकारिक पढाई. पंचगव्य अब एक सम्पूर्ण चिकित्सा थेरेपी. हमारा नारा है - "गौमां से असाध्य नहीं कोई रोग" अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें संपर्क करें 8 95 00 95 00 0. एवं मेल लिखें.. Email : gomaata@gmail.com "गऊमाँ से निरोगी भारत" - हमारा सपना. नामांकन के लिए पंजीकरण शुरू है.
  • प्रादेशिक संगठन

  • पंचगव्य विचार (Poll)

    कोरोना है कुछ भी नहीं, फिर भी सरकारें और भारत की मेडिकल एजेंसियां लोगों को पकड़ – पकड़ कर जबरदस्ती अलोपैथी के ड्रग्स दे रही है. जिससे ज्यादा लोग मर रहे हैं. इसमें कितनी सच्चाई लग रही है ?

    View Results

    Loading ... Loading ...
  • सूचना

  • कोरोना कोई गंभीर वायरस नहीं है. गर्म जल के साथ आयुर्वेद के कुछ मसालों से भाग रहा है. जैसे दालचीनी, कालीमीर्च, अदरख, तुलसी के पत्ते और कडू नीम आदि से. पंचगव्य में भी इस पर अच्छा परिणाम आ रहा है. कालमेघ मिश्रित गोमूत्र अर्क से हजारों लोगों का कोरोना पोजिटिव ठीक हुआ है. जिसके कुछ साक्षात्कार u-tube पर दिए गए हैं. भारतीय रसोईघर के संस्कार में बंधे रहे. निरोगी रहें. महर्षि वागभट्ट के तीन सुरक्षा चक्र में रहें. जीवन निरोगी रहेगा. 1) गोमाता, 2) तुलसी और 3) रसोईघर.
    हमारा नारा – गौ माँ से असाध्य नहीं कोई रोग. एवं गौ माँ से निरोगी भारत, नारी गव्यसिद्धों के नेतृत्व में शीघ्र “गव्यहाट” pvt. Ltd. का शुभारम्भ छत्रपति की पूण्य भूमि महारास्ट्र से. वेब पेज www.gavyahaat.org – Launching soon – (लक्ष्य-गव्यसिद्धों के पंचगव्य उत्पाद को विश्व बाजार में पहुँचा कर उन्हें समृद्ध बनाना.) पंचम पंचगव्य चिकित्सा महासम्मेलन हरियाणा के कुरुक्षेत्र में 9 से 12 नवम्बर 2017 निर्धारित. मार्च 2017 से नामांकन शुरू हो रहा है. (1) एडवांस पंचगव्य थेरेपी – 2 वर्ष (2) गर्भशुद्धि-गर्भधारण-प्रसूति व बालपालन थेरेपी {केवल महिलाओं के लिए} – 2 वर्ष (3) पंचगव्य मेडिसिन प्रीप्रेसन टेकनोलाजी -2 वर्ष. (3) विशेषज्ञ कोर्स – हृदय, कैंसर, अर्थरेटिक्स, टीबी, चर्मरोग, माइग्रेन, पुरुष बाँझपन, नारी बाँझपण, बाल रोग, सिकल सेल, फस्टएड, हड्डी, डायबीटीक्स, आँख-नाक-कान, पाचनतंत्र, नाभि एवं नाडी.
    भारत में पहली बार सभी भारतीये भाषाओं में पंचगव्य चिकित्सा विज्ञान (गऊमाँ के गव्यों) की आधिकारिक पढाई. पंचगव्य अब एक सम्पूर्ण चिकित्सा थेरेपी. हमारा नारा है
    भारत में पहली बार सभी भारतीये भाषाओं में पंचगव्य चिकित्सा विज्ञान (गऊमाँ के गव्यों) की आधिकारिक पढाई. पंचगव्य अब एक सम्पूर्ण चिकित्सा थेरेपी. हमारा नारा है
    भारत में पहली बार सभी भारतीये भाषाओं में पंचगव्य चिकित्सा विज्ञान (गऊमाँ के गव्यों) की आधिकारिक पढाई. पंचगव्य अब एक सम्पूर्ण चिकित्सा थेरेपी. हमारा नारा है
  • आन्दोलन से जुड़ें

  • Poll Archive

    कोरोना है कुछ भी नहीं, फिर भी सरकारें और भारत की मेडिकल एजेंसियां लोगों को पकड़ – पकड़ कर जबरदस्ती अलोपैथी के ड्रग्स दे रही है. जिससे ज्यादा लोग मर रहे हैं. इसमें कितनी सच्चाई लग रही है ?

    • सहमत है (100%, 1 Votes)
    • सहमत नही है (0%, 0 Votes)

    Total Voters: 1

    Start Date: July 13, 2020 @ 12:01 pm
    End Date: No Expiry

    सुगंधित अगरबत्तियों और रासायनिक धूप बत्तियों से निकलने वाला धुंआ शरीर की कोशिकाओं के लिए सिगरेट के धुंए से अधिक जहरीला साबित हो रहा है। क्या आप सहमत है?

    • हा (95%, 1,572 Votes)
    • नहीं (5%, 83 Votes)

    Total Voters: 1,655

    Start Date: October 30, 2017 @ 10:43 am
    End Date: No Expiry

    How Is My Site?

    • Good (100%, 1 Votes)
    • Excellent (0%, 0 Votes)
    • Bad (0%, 0 Votes)
    • Can Be Improved (0%, 0 Votes)
    • No Comments (0%, 0 Votes)

    Total Voters: 1

    Start Date: October 30, 2017 @ 10:26 am
    End Date: No Expiry