पंचगव्य डॉक्टर असोसिएशन

Registered by Govt. of Tamilnadu
Under act, 1975, SL No. 280/2015
Registered by Govt. of India
Act XXI 1860, Regn SEI 1115

  • भारत में पहली बार सभी भारतीये भाषाओं में पंचगव्य चिकित्सा विज्ञान (गऊमाँ के गव्यों) की आधिकारिक पढाई. पंचगव्य अब एक सम्पूर्ण चिकित्सा थेरेपी. हमारा नारा है - "गौमां से असाध्य नहीं कोई रोग" अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें संपर्क करें 8 95 00 95 00 0. एवं मेल लिखें.. Email : gomaata@gmail.com "गऊमाँ से निरोगी भारत" - हमारा सपना. नामांकन के लिए पंजीकरण शुरू है.
  • प्रादेशिक संगठन

  • पंचगव्य विचार (Poll)

    पूरी घटना "उत्तम खेती मध्यम बान नीच चाकरी कुक्कर निदान"

    View Results

    Loading ... Loading ...
  • सूचना

  • हमारा नारा – गौ माँ से असाध्य नहीं कोई रोग. एवं गौ माँ से निरोगी भारत, नारी गव्यसिद्धों के नेतृत्व में शीघ्र “गव्यहाट” pvt. Ltd. का शुभारम्भ छत्रपति की पूण्य भूमि महारास्ट्र से. वेब पेज www.gavyahaat.org – Launching soon – (लक्ष्य-गव्यसिद्धों के पंचगव्य उत्पाद को विश्व बाजार में पहुँचा कर उन्हें समृद्ध बनाना.) पंचम पंचगव्य चिकित्सा महासम्मेलन हरियाणा के कुरुक्षेत्र में 9 से 12 नवम्बर 2017 निर्धारित. मार्च 2017 से नामांकन शुरू हो रहा है. (1) एडवांस पंचगव्य थेरेपी – 2 वर्ष (2) गर्भशुद्धि-गर्भधारण-प्रसूति व बालपालन थेरेपी {केवल महिलाओं के लिए} – 2 वर्ष (3) पंचगव्य मेडिसिन प्रीप्रेसन टेकनोलाजी -2 वर्ष. (3) विशेषज्ञ कोर्स – हृदय, कैंसर, अर्थरेटिक्स, टीबी, चर्मरोग, माइग्रेन, पुरुष बाँझपन, नारी बाँझपण, बाल रोग, सिकल सेल, फस्टएड, हड्डी, डायबीटीक्स, आँख-नाक-कान, पाचनतंत्र, नाभि एवं नाडी.
    भारत में पहली बार सभी भारतीये भाषाओं में पंचगव्य चिकित्सा विज्ञान (गऊमाँ के गव्यों) की आधिकारिक पढाई. पंचगव्य अब एक सम्पूर्ण चिकित्सा थेरेपी. हमारा नारा है
    भारत में पहली बार सभी भारतीये भाषाओं में पंचगव्य चिकित्सा विज्ञान (गऊमाँ के गव्यों) की आधिकारिक पढाई. पंचगव्य अब एक सम्पूर्ण चिकित्सा थेरेपी. हमारा नारा है
    भारत में पहली बार सभी भारतीये भाषाओं में पंचगव्य चिकित्सा विज्ञान (गऊमाँ के गव्यों) की आधिकारिक पढाई. पंचगव्य अब एक सम्पूर्ण चिकित्सा थेरेपी. हमारा नारा है
  • महासम्मेलन परिचय

    सर्व विदित है कि हमारे देश कि गाय साक्षत लक्ष्मी है। आज के संदर्भ में लक्ष्मी की व्याख्या रूपये, पैसे से की जा रही है। इस संदर्भ में भी एक देशी गाय को देखें तो वह अकेली प्रति माह लाखों रूपये देने में सक्षम है। इस विषय पर पिछले 15 वर्षों से महर्षि वागभट्ट गौशाला स्थित ‘पंचगव्य अनुसंधान केन्द्र’ में शोधकार्य चल रहें हैं।। इस दौरान किये गये हजारों प्रयोग सत्यापित करते हैं कि एक देशी गाय प्रतिदिन गौबर, गौमूत्र और दूध के माध्यम से लगभग 3 हजार रूपये की अमृत जीवन रक्षक औषधियां प्रदान करती है।

    प्रथम समूह के गव्यसिद्ध डॉ. प्रथम महासम्मेलन में

    प्रथम समूह के गव्यसिद्ध डॉ. प्रथम महासम्मेलन में

    पंचगव्य औषधियों से पिछले 15 वर्षों से लगभग 30 हजार मरीजों पर अभ्यास करके देखा गया कि सभी असाध्य कहीं जाने वाली बीमारियां ठीक हो रही हैं.

    अमर शहीद राजीव भाई का सपना था की भारत की गोमाता दान और दया पर नहीं बल्कि स्वावलंबी व्यवस्था पर निर्भर होनी चाहिए. इसी सोंच के साथ गाय के प्रति उनकी कर्तव्य निष्ठा साकार करने के लिए वर्ष 2012 में भारत सरकार के संददीय मण्डल द्वारा संचालित भारत सेवक समाज के सहयोग से पंचगव्य चिकित्सा पाठ्यक्रम का शुभारम्भ इंडियन सेल थेरेपी इंस्टिट्यूट, मदुरै के साथ मिलकर पंचगव्य गुरुकुलम ने किया. जिसके अंतरर्गत सर्वप्रथम 3 तरह के पाठ्यक्रम शुरू किये गए. 1) मास्टर डिप्लोमा इन पंचगव्य थैरेपी, 2) डिप्लोमा इन पंचगव्य थैरेपी और 3) सर्टिफिकेट कोर्स इन पंचगव्य थैरेपी।

    इन पाठ्यक्रमों से पढ़कर दीक्षांत हुए गव्यसिद्ध डॉक्टर अपने-अपने क्षेत्र में असाध्य रोगों से पीड़ित रोगियों की चिकित्सा करके असाध्य रोगों से लोगों को स्वास्थ्य प्रदान कर रहें हैं। इस दौरान कई ऐसी बीमारियों कि चिकित्सा संभव हो सकी है जिसके बारे में दुनिया के सभी चिकित्सा पद्धति मौन हैं. हम चाहते है कि ऐसे अद्भुत परिणाम और अभ्यास के बारे में दुनिया के लोग जाने, भारतीय गाय की महिमा को पहचाने और कल तक जिस गाय को केवल हिन्दू धर्म का विषय बताया जाता था, उसमें अब असाध्य बीमारियों की चिकित्सा देखें.

    वह समय अब दूर नहीं जब ऋषि सुश्रुत की पौराणिक शल्य चिकित्सा हमारे गाय की महत्ता से फिर से अग्रसर होगी। पंचगव्य अनुसंधान की देख-रेख में कई ऐलोपैथी शास्त्र के सर्जन डाॅक्टर इस काम में लगे हुए है और उन्हें 90 प्रतिशत तक सफलता मिली है। आशा है की 2016 तक पंचगव्य के माध्यम से भारत में शल्य चिकित्सा का मार्ग भी प्रशस्त होगा.

    पंचगव्य चिकित्सा विज्ञान का यह अभ्यास दुनिया के सामने लाने का प्रयास ही पंचगव्य चिकित्सा महासम्मेलन है. इसे प्रत्येक वर्ष भारत के अलग – अलग राज्यों में अमर बलिदानी राजीव भाई के पूण्य और जन्म तिथि (काल भैरव अष्टमी) के दिन किया जाता है.  तीन दिवसीय प्रथम चिकित्सा महासम्मलेन का आयोजन वर्ष 2013 में  द्रविड़ भूमि के कांचीपुरम स्थित महर्षि वाग्भट गोशाला और चेन्नै में  किया गया था.  इस क्षेत्र के स्थल पूरण के अनुसार यहाँ सतयुग में ऋषि अत्री,  ऋषि भारदवाज, ऋषि अगस्त,  ऋषि  कश्यप एवं ऋषि भृगु की तपोस्थली रही है। जिसमें महर्षि वाग्भट्ट गौशाला परिसर ऋषियों कि वनस्पति उद्यान एवं प्रयोगशाला रह चुका है।

    सम्मलेन में उपस्थित गव्यसिद्ध डॉ. व् विद्यार्थी

    सम्मलेन में उपस्थित गव्यसिद्ध डॉ. व् विद्यार्थी

    सम्मेलन में पंचगव्य चिकित्सा के क्षेत्र में काम कर रहे विद्यार्थी, गव्यसिद्ध डॉ अपने अनुभवों का संवाद प्रस्तुत करते हैं एवं विडियों प्रदर्शनी के माध्यम से पंचगव्य चिकित्सा विज्ञान पर प्रकाश डालते हैं. अन्य थेरेपी के डॉ को भी अवगत कराया जाता है की असाध्य बीमारियों में पंचगव्य का कैसे उपयोग कर सकते हैं. असाध्य रोगों  पर लघु फिल्म भी दिखाई जाति है.  कुछ दुर्लभ बिमारी वाले रोगी अपने अनुभवों को भी रखते हैं.

    अनुसंधान केन्द्र की भावी योजना है कि इस प्रकार के चिकित्सा महासम्मेलन भारत के सभी नगरों में किया जाना चाहिए। अतः प्रति वर्ष भारत के विभिन्न नगरों में ऐसे चिकित्सा महासम्मेलन किये जायेंगी। जिस किसी भाई को अपने प्रदेश में सम्मेलन करवाना हो मोबाइल 09444 03 47 23  सम्पर्क कर सकते हैं।

    इस सम्मेलन में भाग लेने वाले प्रतिनिधियों को अनुभव प्रमाण पत्र प्रदान किया जाता है. जो विशेषज्ञ पंचगव्य की औषधियों पर अनुसंधान पत्र प्रस्तुत करते हैं उन्हें सम्मानित / पुरस्कृत भी किया जाता है.

    पंचगव्य चिकित्सा महासम्मेलन में प्रति वर्ष 5 स्वर्ण पुरस्कार (नकद/स्वर्ण प्लेटिंग स्मृति चिन्ह) प्रदान किये जाते हैं. साथ ही अन्य पुरस्कार भी प्रदान किये जाते हैं. ये सभी पुरस्कार 5 अलग – अलग विषयों पर विशेष कार्य करने वाले गव्यसिद्धों को प्रदान किये जाते हैं.

    1) अ.ब.राजीव भाई दीक्षित श्रेष्ठ पंचगव्य चिकित्सा सेवा सम्मान
    2) अ.ब.राजीव भाई दीक्षित श्रेष्ठ पंचगव्य चिकित्सालय सम्मान
    3) अ.ब.राजीव भाई दीक्षित श्रेष्ठ पंचगव्य विज्ञानी सेवा सम्मान
    4) अ.ब.राजीव भाई दीक्षित श्रेष्ठ पंचगव्य प्रचारक सम्मान
    5) अ.ब.राजीव भाई दीक्षित श्रेष्ठ पंचगव्य उत्पादक सम्मान

    इसके अलावा भी कई सम्मान दिए जाते हैं. जैसे

    1) अ.ब.राजीव भाई दीक्षित श्रेष्ठ पंचगव्य पत्नी सम्मान
    2) अ.ब.राजीव भाई दीक्षित श्रेष्ठ पंचगव्य सिद्धर सम्मान (पुराने गव्यसिद्ध्ररों में से.)
    3) अ.ब.राजीव भाई दीक्षित श्रेष्ठ पंचगव्य परिवार सम्मान

    इतना ही नहीं, सम्मलेन के नियोजन के निमित्त भी कई सम्मान दिए जाते हैं. इसी दोरान अगले महासम्मेलन की घोषणा भी की जाती है.

    1) पहला महासम्मेलन कट्टावक्कम (कांचीपुरम) और चेन्नै में हुआ.
    2) द्वितीये महासम्मेलन औदुम्बर (महाराष्ट्र) और सांगली में हुआ.
    3) तृतीये महासम्मेलन पुष्कर (राजस्थान) में होने जा रहा है. (4-6 दिसंबर 2015)
    4) चतुर्थ महासम्मेलन (गुजरात) में होने तय है.