Registered by Govt. of Tamilnadu Under act, 1975, SL No. 280/2015
Registered by Govt. of India Act XXI 1860, Regn SEI 1115

  • भारत में पहली बार सभी भारतीये भाषाओं में पंचगव्य चिकित्सा विज्ञान (गऊमाँ के गव्यों) की आधिकारिक पढाई. पंचगव्य अब एक सम्पूर्ण चिकित्सा थेरेपी. हमारा नारा है - "गौमां से असाध्य नहीं कोई रोग" अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें संपर्क करें 8 95 00 95 00 0. एवं मेल लिखें.. Email : gomaata@gmail.com "गऊमाँ से निरोगी भारत" - हमारा सपना. नामांकन के लिए पंजीकरण शुरू है.
  • प्रादेशिक संगठन

  • पंचगव्य विचार (Poll)

    कोरोना है कुछ भी नहीं, फिर भी सरकारें और भारत की मेडिकल एजेंसियां लोगों को पकड़ – पकड़ कर जबरदस्ती अलोपैथी के ड्रग्स दे रही है. जिससे ज्यादा लोग मर रहे हैं. इसमें कितनी सच्चाई लग रही है ?

    View Results

    Loading ... Loading ...
  • सूचना

  • कोरोना कोई गंभीर वायरस नहीं है. गर्म जल के साथ आयुर्वेद के कुछ मसालों से भाग रहा है. जैसे दालचीनी, कालीमीर्च, अदरख, तुलसी के पत्ते और कडू नीम आदि से. पंचगव्य में भी इस पर अच्छा परिणाम आ रहा है. कालमेघ मिश्रित गोमूत्र अर्क से हजारों लोगों का कोरोना पोजिटिव ठीक हुआ है. जिसके कुछ साक्षात्कार u-tube पर दिए गए हैं. भारतीय रसोईघर के संस्कार में बंधे रहे. निरोगी रहें. महर्षि वागभट्ट के तीन सुरक्षा चक्र में रहें. जीवन निरोगी रहेगा. 1) गोमाता, 2) तुलसी और 3) रसोईघर.
    हमारा नारा – गौ माँ से असाध्य नहीं कोई रोग. एवं गौ माँ से निरोगी भारत, नारी गव्यसिद्धों के नेतृत्व में शीघ्र “गव्यहाट” pvt. Ltd. का शुभारम्भ छत्रपति की पूण्य भूमि महारास्ट्र से. वेब पेज www.gavyahaat.org – Launching soon – (लक्ष्य-गव्यसिद्धों के पंचगव्य उत्पाद को विश्व बाजार में पहुँचा कर उन्हें समृद्ध बनाना.) पंचम पंचगव्य चिकित्सा महासम्मेलन हरियाणा के कुरुक्षेत्र में 9 से 12 नवम्बर 2017 निर्धारित. मार्च 2017 से नामांकन शुरू हो रहा है. (1) एडवांस पंचगव्य थेरेपी – 2 वर्ष (2) गर्भशुद्धि-गर्भधारण-प्रसूति व बालपालन थेरेपी {केवल महिलाओं के लिए} – 2 वर्ष (3) पंचगव्य मेडिसिन प्रीप्रेसन टेकनोलाजी -2 वर्ष. (3) विशेषज्ञ कोर्स – हृदय, कैंसर, अर्थरेटिक्स, टीबी, चर्मरोग, माइग्रेन, पुरुष बाँझपन, नारी बाँझपण, बाल रोग, सिकल सेल, फस्टएड, हड्डी, डायबीटीक्स, आँख-नाक-कान, पाचनतंत्र, नाभि एवं नाडी.
    भारत में पहली बार सभी भारतीये भाषाओं में पंचगव्य चिकित्सा विज्ञान (गऊमाँ के गव्यों) की आधिकारिक पढाई. पंचगव्य अब एक सम्पूर्ण चिकित्सा थेरेपी. हमारा नारा है
    भारत में पहली बार सभी भारतीये भाषाओं में पंचगव्य चिकित्सा विज्ञान (गऊमाँ के गव्यों) की आधिकारिक पढाई. पंचगव्य अब एक सम्पूर्ण चिकित्सा थेरेपी. हमारा नारा है
    भारत में पहली बार सभी भारतीये भाषाओं में पंचगव्य चिकित्सा विज्ञान (गऊमाँ के गव्यों) की आधिकारिक पढाई. पंचगव्य अब एक सम्पूर्ण चिकित्सा थेरेपी. हमारा नारा है
  • आन्दोलन से जुड़ें

  • संवाद – राष्ट्रीय महासम्मेलन 2017

    कुरुक्षेत्र युद्ध भूमि पर पंचम पंचगव्य चिकित्सा महासम्मेलन पूर्ण

    ब्रह्म सरोवर, पुराना शिव मंदिर परिसर में सूर्य योग का प्रशिक्षण देते हुए सूर्ययोगी उमाशंकर जी.

    इस महासम्मेलन का मुख्य विषय “वसुधैव कुटुम्बकम” रहा. जिसमें स्पष्ट किया गया की हम जिस वसुधा में रहते हैं उस वसुधा के सभी जीव और वनस्पति हमारे कुटुम्ब होते हैं. चित्र प्रदर्शनी के माध्यम से बताया गया की “हाइब्रिड” अनाज मनुष्य की संस्कृति को नष्ट कर रहा है. इसे किसी भी कारण भक्ष्य नहीं करना चाहिए. प्राकृतिक कृषि करने वाले कृषक भारतीय समाज में सबसे ऊँचा स्थान पर हैं, इस विषय को प्रमाणिकता के साथ प्रस्तुत किया गया.

    उद्घाटन समारोह में हरियाणा का सम्पूर्ण जाट समाज उपस्थित हुआ.

    इस महासम्मेलन का मुख्य विषय “वसुधैव कुटुम्बकम” रहा. जिसमें स्पष्ट किया गया की हम जिस वसुधा में रहते हैं उस वसुधा के सभी जीव और वनस्पति हमारे कुटुम्ब होते हैं. चित्र प्रदर्शनी के माध्यम से बताया गया की “हाइब्रिड” अनाज मनुष्य की संस्कृति को नष्ट कर रहा है. इसे किसी भी कारण भक्ष्य नहीं करना चाहिए. प्राकृतिक कृषि करने वाले कृषक भारतीय समाज में सबसे ऊँचा स्थान पर हैं, इस विषय को प्रमाणिकता के साथ प्रस्तुत किया गया.

    ब्रह्मकाल की कक्षा में गव्यसिद्धों के लिए उद्बोदन देते हुए गुरूजी.

    महासम्मेलन के चार दिन प्रात:कालीन सत्र में सेवारत्न गव्यसिद्धाचार्य ने पांचमहाभूत पूजा के साथ – साथ चार अद्भूत विषयों पर संवाद प्रस्तुत किया. प्रथम दिवस – “नवगव्यों का नया विज्ञान” विषय पर संवाद किया. द्वितीये दिवस – मनुष्य जीवन में प्राकृतिक अनाजों की भूमिका एवं “हाइब्रिड” से मनुष्य की मर रही चेतना पर संवाद प्रस्तुत किया. तीसरे दिवस – “ब्रह्मचार्य में वीर्यपाचन” विषय पर संवाद किया. चतुर्थ दिवस – क्वांटम फिजिक्स (तरंगीय भौतिक) से निर्मित विश्व, जिसमें गोमाता से संतुलन विषय पर संवाद प्रस्तुत किया.

    प्रात:काल कक्षा में उपस्थित गव्यसिद्ध.

    9 नवम्बर को विधिवत उद्घटन हुआ जिसमें वैज्ञानिक श्री मदन मोहन बजाज, आचार्य रामस्वरुप, डॉ. संगीता, डॉ. जी मणि एवं सम्पूर्ण जाट समाज के बीस प्रतिनिधियों ने भाग लिया.
    वैज्ञानिक श्री मदन मोहन बजाज ने अपने संबोधन में स्पष्ट किया की धरती पर में आ रही भूकंप, सुनामी, तूफ़ान आदि का कारण धरती पर मनुष्य द्वारा की जा रही जीव हत्या है. उन्होंने कहा की आज 80 प्रतिशत संक्रामक रोगों का कारण मांसाहार है. एलोपेथी मेडिकल सिस्टम पर भी उन्होंने कहा की डॉक्टरों द्वारा मरीजों को डरा देने और जाँच रिपोर्ट के असत्य आंकड़ों के कारण सबसे जयादा बीमारियाँ उत्पन्न हो रही है.

    उद्घाटन समारोह के अतिथि श्री मदन मोहन बजाज जी, आचार्य रामस्वरूप जी एवं डॉ. जी मणि जी द्वारा वर्ष 2017 नया ज्ञान छाया चित्र का विमोचन करते हुए.

    सभी आचार्यों द्वारा गव्यसिद्धों को संबोधन.

    इस दौरान “गव्यसिद्ध ” (पंचगव्य चिकित्सा विज्ञान का वार्षिक अंक) भाग – 4 का विमोचन किया गया. साथ ही राजीव भाई दीक्षित एवं गुरुजी के चुनिन्दा व्याख्यानों पर आधारित एम् पी -3 (आडिओ सी डी), पंचगव्य विद्यापीठम की विवरणिका, गोवंदना (गोमाता आधारित दोहों का संग्रह), “वसुधैव कुटुम्बकम” चित्र प्रदर्शन (पोस्टर) एवं गोबर से निर्मित कागज से बनी हुई विविध वस्तुओं का विमोचन किया.

    कार्यक्रम के दूसरे दिन भारत के 23 प्रदेशों से आये हुए 321 गव्यसिद्धरों का दीक्षांत हुआ. उन्हें सूर्ययोगी उमाशंकर जी, डॉ. जी मणि, डॉ. संगीता एवं गुरुजी ने अपने कर कमलों से प्रदान कर आशीर्वाद दिया.
    प्रमुख वक्ता के रूप प्राकृतिक कृषक शूरवीर सिंह ने कहा की – प्राकृतिक कृषि का मूल मंत्र सभी जीव जंतुओं की रक्षा करते हुए कृषि का कर्म करना है. उन्होंने प्राकृतिक किसानों के कृषक भाव को उद्गारित करते हुए कहा की किसान सभी के लिए कृषि कर्म करता है, वह सभी के खंड (सूक्षम सूक पक्षी, कीट, स्तनधारी जीव एवं अतिथी ) को ध्यान में रखते हुए मिश्रित कृषि करता है.

    संत गोपालदास जी ने भी सम्मलेन में भाग लिया. एक समूह चित्र.

    कार्यक्रम के दौरान चारो दिन हरियाणवी सस्कृति पर आधारित पौराणिक, लुप्त हो रही सास्कृतिक कार्यक्रमों का शानदार मंचन हुआ. जिसमें कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के छात्रों द्वारा कश्मीर श्रजिकल स्ट्राइक पर एक अनूठा मंचन प्रस्तुत किया. हरियाणवी नृत्य, गुरुकुल झझर के ब्रह्मचारियों ने पौराणिक भारतीय युद्धकला का प्रदर्शन किया जिसमें मलखंभ, दंड, रस्सी व्यायाम, भालायुद्ध प्रस्तुत किया. विविध प्रकार की रागिनियों का अद्भूत गायन प्रस्तुत किया गया. लुप्त हो रहा सारंगी वादन की भी प्रस्तुति की गयी.

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *